हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शान्ता कुमार ने कहा आजादी के 75 वर्षों में सभी सरकारों ने विकास का प्रयत्न किया है

Read Time:3 Minute, 13 Second

पालमपुर – 28 मई 2022- हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शान्ता कुमार ने कहा आजादी के 75 वर्षों में सभी सरकारों ने विकास का प्रयत्न किया है। पिछले 8 वर्षो में नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में जो भी अधिक से अधिक हो सकता वह भारत में किया, बहुत विकास हुआ है इसके बाद भी बढ़ती आबादी तथा कुछ और कारणों से अभी गरीबी और पिछड़ापन है। सभी जगह सब सुविधाएं नही है।
उन्होंने कहा भारत में कुल 5 लाख मन्दिर है। मन्दिरों की आय भारत सरकार की आय से भी कई गुणा अधिक है। भारत के सभी मन्दिरों की कुल अर्थ व्यवस्था 3 लाख करोड़ रू० की है। नगद धन के साथ सोने का दान भी बहुत अधिक होता है। 2021 में तिरूपति मन्दिर में 3 हजार करोड़ रू० नगद और 6 हजार करोड़ का सोना दान में आया था। दक्षिण के कुछ मन्दिरों में सदियों से पड़ा हुआ सोना बन्द तालों में रखा है, किन्हीं कारणों से खोला तक नहीं गया।
शान्ता कुमार ने कहा कुछ मन्दिर अपनी आय का जनता के लिए बढ़िया उपयोग करते है। एक मन्दिर विश्वविद्यालय चला रहा है, कुछ और भी जन कल्याण के काम कर रहे है। परन्तु सभी मन्दिर ऐसा नही कर रहे मन्दिरों में धन और सम्पत्ति भी देश की है। यदि कुछ मन्दिर जन कल्याण का काम कर सकते है तो बाकी मन्दिरों को भी ऐसा करने के लिए सरकार को प्रेरित करना चाहिए और आवश्यकता हो तो कानून भी बनाया जाना चाहिए।
उन्होंने कहा भारत में कम से कम 100 ऐसे बड़े मन्दिर है जो भारत सरकार के एम्स की तरह के बड़े हस्पताल चला सकते है। बाकी सभी मन्दिर जन कल्याण के छोटे काम कर सकते है। सरकार इस पर विचार करे। देश के 100 बड़े मन्दिरों को एम्स की तरह के 100 हस्पताल जिनमें गरीबों का ईलाज मुफ्त हो चलाने के लिए बाध्य किया जाए। बाकी देश के प्रत्येक मन्दिर की आय के अनुसार छोटी या बड़ी गौशाला चलायें । इस निर्णय से पूरे देश को स्वास्थ्य सुविधा मिलेगी और पूरे देश में सड़क पर कोई गाय आवारा नजर नहीं आयेगी। गाय को माता मानने वालों को शार्मिदा नहीं होना पड़ेगा।
इन दो अति महत्वपूर्ण कामों को पूरा करने के लिए सरकार को कुछ खर्च नही करना पड़ेगा। जब मन्दिर समाज सेवा का ऐसा काम करने लगेंगे तो मन्दिरों में दान की आय भी बढ़ जायेगी।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
nstar india
Author: nstar india

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *